Tuesday, April 7, 2009

मज़दूर (राजस्थान साहित्य अकादमी की अक्टूबर 2008 की मधुमती पत्रिका ) में प्रकाशित

7 comments:

अनिल कान्त : said...

अच्छी चित्रकारी है

डॉ. मनोज मिश्र said...

पसंद आया .

परमजीत बाली said...

बहुत बढिया!!
बहुत सुन्दर चित्र है।

Babli said...

बहुत सुन्दर चित्र है!

M.A.Sharma "सेहर" said...

सुन्दर चित्र !!!

Just to say Wow !!!

jamos jhalla said...

sundar chitr main ati sundar bhaavnaa kaa pradarshan.saadhuvaad

Subject of Gods experiments said...

aapki chitrakari me masumiyat bhi jhalakti hai aur paripakwata bhi. chitra ki rekhayein bhale hi jadit ho, sandesh bahut acche se vyakta hota hai.