Tuesday, November 11, 2008

शमां (कोटा) की ज़िन्दगी लाईव पत्रिका में प्रकाशित


इंतज़ार कीजिए वक्त के आने का
चर्चे होंगे कभी आपके इस ज़हां में
शमां पिघल रही है इक आस में
कोइ तो परवान चढ़ेगा पतंगा यहां

32 comments:

आशीष said...

nice blog....

गिरीश बिल्लोरे "मुकुल" said...

ATI SUNDAR JI

makrand said...

bahut sunder
keep going
regards
do visit if have time my post

Udan Tashtari said...

बढ़िया..सही है.

Amit K. Sagar said...

वाह! निसंदेह आपका "चित्र संसार" बहुत ही सुंदर है. लगता है, समय की आप बहुत ही उम्दा आर्टिस्ट होंगी. शुभकामनायें. जारी रहें.

Abhishek said...

Acchi painting aur ise spasht karti acchi panktiyan bhi. Swagat mere blog par bhi.

Dr. G. S. NARANG said...

aap apni bhavnao ko chitro me samayojeet bade hi sunder tarike se kar rahi hai....badhai

राजीव करूणानिधि said...

wahh kya baat hai...Achchi penting hai..Koshish jaari rakhiye

Ranjan said...

Thanks for the comments on my blog. You are very skillful artist...I would lookforward for more of ur sketchs and drawings

jamos jhalla said...

Yamini aapki kalam aur painting brush kaa kamaal dekh yeh kahaa jaa saktaa hai ki ek din aaphike charche honge saare jamane main
Yamini work of your pen andbrush is really yammi yammi.keep it up . keep using your pen for jhalli gallan also. keep visiting jhallistaan.




t












yY

amrit said...

very nice, i have firm believe one we will watch u as a good artist..

Sanjeev Kumar Das said...

Samma ki aash lagaye hum bhi bhaithe hain..........
Koi aae our ujala kar de......

nice
create thinking more
regards
sanjeev kumar 'bittoo'
www.hummaithilchhi.blogspot.com

पुष्प कुलश्रेष्ठ said...

कला मन की अभिव्यक्ति का अच्छा मध्यम है ,शुभकामना

shama said...

Sundar ! Kaisa ajeeb ittefaaq hai...mera naam Shama hai !Kavita padhke bohot khushee huee...chitrbhee kitna arthpoorn hai !Aur kya likhun ?

sarthak said...

है और भी दुनियामैं सुखनवर बहोत अच्छे,
कहते हैं कि गालिबका है अंदाझ-ए-बयां और।

वेसे ही आप भी ग़ालिब की तारा से पुरी दुनिया पर अपना नाम लिखे एसी सुभकामनाये

Anonymous said...

achchha hai .
shubhkamnaye,

--------------------"Vishal"

RAJEEV said...

baut ache nice yamini keep it up
aap apni in ungliyou ke jaadu ko banaye rakhiye

Wajood said...

कम शब्दों में सुंदर अभिव्यक्ति, और साथ ही दो कलायों का सुंदर संगम ||
साधुवाद ||

Kartik said...

bohot sundar...

Abhi said...

bahut badhia.
yaha bhi padhare....
http://jabhi.blogspot.com

वरुण कुमार सखाजी said...

आपकी चित्रशैली में एक सच है सभी पर एक कमेंट्स करना संभव नहीं फिर भी कोशिश करता हूँ। शमां वो जला कर बैठे थे मेरे इंतज़ार में मग़र हम अय बदक़िस्मत आज किसी और ग़ली से ग़ुज़रे..जाना ए दिल तो तडप उठा चल अब चल फिर उसी ग़ली से ग़ुज़र, मग़र फिर हम वही निकले।
जीता हूँ इस आस में कहीं सडक पर पढ कर नीचे सडक चिमनियों के लिंकन, कोई ऐंसी मिसाल मैं भी पेश करूं। बाक़ियों के लिए शब्द ही नहीं क्या लिखूं।

दिल का दर्द said...

पतंगे तो शमा पर परवान होने के लिए तैयार रहते है पर शमा क्यों नहीं
आपकी अभिव्यक्ति बहुत अच्छी है

anu julka said...

Beautiful !!!!!!!

lokendra said...

waah aap ka ye chitr sansar nirala hai............

prashant said...

एक सुंदर कला का अदभुद नमुना !

mala said...

बहुत सुंदर ...!

राव गुमानसिंघ said...

bahut sunder but High Quality Templates change kare ...achcha rahega..welcome my blog
http://jaloretoday.blogspot.com

राव गुमानसिंघ said...

bahut sunder but High Quality Templates change kare ...achcha rahega..welcome my blog
http://jaloretoday.blogspot.com

KESHAV said...


hiii YAMINI
VERY NICE PAINTINGS
I REALLY LIKE THEM

Vijay Kumar Sappatti said...

bahut sundar ji,kavita aur usko juban deti hui sketch ..

wah wah ..

bahut badhai .

pls visit my blog : poemsofvijay.blogspot.com

vijay

M VERMA said...

आपके चित्र बोलते से लगते है --- बधाई

sanjukranti said...

बहुत ही अच्छा लगा आपके द्वारा बनाया गया रेखाचित्र.