Wednesday, August 27, 2008

मटका और सुराही (राजस्थान साहित्य अकादमी की मधुमती पत्रिका अक्टूबर 2008 में प्रकाशित)
















1 comment:

पवन *चंदन* said...

वाह वाह वाह बहुत अच्‍छा। मजा आ गया।